गुरुवार, 5 मार्च 2009

यही हालात इब्तिदा से रहे
लोग हमसे खफा -खफा से रहे |

बेवफा तुम कभी थे लेकिन
ये भी सच है कि बेवफा से रहे |

इन चरागों में तेल ही कम था
क्यों गिला फ़िर हमें हवा से रहे |

उसके बन्दों को देख कर कहिये
हमको उम्मीद क्या खुदा से रहे

जिंदगी की शराब मांगते हो
हम को देखो के पी के प्यासे रहे |


जावेद जाँ निसार 'अख्तर '

4 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी स्वाद कोशिकाएं मुझसे मिलती जुलती सी है, उम्दा ग़ज़ल !

    उत्तर देंहटाएं
  2. जिंदगी की शराब मांगते हो
    हम को देखो के पी के प्यासे रहे |
    शानदार गजल लिखी है आपने । गजल का हर मतला अपने आप में बेमिसाल है । खासकर आम जिन्दगी की बारीक पहलुओ को अच्छे ढ़ंग से ये गजल महसूस कराता है । आपको आभार

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपने बहुत ही अच्छी गजल लिखी है

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत ही मार्मिक गजल है, ऐसा लगता है की आपने इस दर्द को जिया है और गम के आंसुओ को पिया है. बहुत अच्छा प्रयास.

    उत्तर देंहटाएं